Hindi Stories Inspirational Success Stories

Harry Potter की लेखिका जे के रोलिंग (J K Rowling) की Success Story

हमारे बीच ऐसे लोग, बहुत ही कम होंगे जिन्होंने हैरी पॉटर यह नाम नहीं सुना होगा. हमारे बीच कुछ लोग ऐसे भी है जिन्होंने हैरी पॉटर की सारी किताबे पड़ी है और सारी फिल्म भी देखी है. 🙂

आज हम आप को इसी हैरी पॉटर के निर्माती के बारे में बताने जाने वाले है, जिसने अनगिनत कठिनाईओ का सामना करके सारी दुनिया को हैरी पॉटर की जादुई दुनिया से मिलवाया. हैरी पॉटर की लेखिका का नाम है – जोआन रोलिंग जिन्हे सारी दुनिया जे.के. रोलिंग इस नाम से जानते है.

Jk Rowling story

जे के रोलिंग (J K Rowling) की Success Story

17 साल के उम्र में उन्हें ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी (विद्यापीठ) से अस्वीकार किया गया. जिसके कारण उन्हें फ्रेंच भाषा में बी.ए. करना पड़ा. जब वह 25 साल की थी तब उनकी माँ का स्वर्गवास हो गया और 26 साल की उम्र में उन्हें गर्भपात का भी सामना करना पड़ा. 27 साल की उम्र में उन्होंने शादी की पर उन्हें वैवाहिक जीवन में भी बहुत ही कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. उनका वैवाहिक सफर अगले ही साल तलाक के साथ ख़त्म हो गया और वह डिप्रेशन में चली गयी. 

अब उनके ऊपर अपने साथ अपनी छोटी बेटी की भी जिम्मेदारी आ गयी. अपनी आर्थिक कठिनायों का सामना करने के लिए उन्हें सरकारी योजनाओ को सहारा लेना पड़ा. इतनी मुश्किल हालातो से गुजरते वक़्त उनके मन में कई बार आत्महत्या करने के विचार भी आये. लेकिन बहुत इच्छाशक्ति से उन्होंने अपना पूरा ध्यान एक ऐसी चीज़ पे केंद्रित किया जिसमे वह बहुत ही माहिर थी – वह चीज़ थी, लेखन (Writing).

31 साल की उम्र में उन्होंने अपनी पहली किताब प्रकाशित की. उनकी पहली किताब को 12 प्रकाशकों ने अस्वीकार किया था पर उन्होंने हार नहीं मानी. ब्लूम्सबरी नामक एक प्रकाशन कंपनी ने उनकी पहली किताब को अपनाया और सिर्फ 1000 किताबे छापी. पहली किताब का नाम – ‘हैरी पॉटर एंड द फिलॉस्फर्स स्टोन’ था. इस किताब से हैरी पॉटर नामक जादुई दुनिया का सफर शुरू हुआ जिसे आज हम सब जानते और चाहते है. आज उन 1000 किताबो की कीमत £19000 से £25000 के बीच है.

अगले 4 सालो में उन्होंने और 8 किताबे लिखी, जिससे उन्हें ‘ऑथर ऑफ़ द ईयर‘ (साल के लेखक) से नवाजा गया. हैरी पॉटर आज एक जागतिक ब्रांड है, जिसमे कुल 8 किताबे हैं एक किताब को दुनियाभर में सराहा गया है बच्चो के साथ बड़े भी हैरी पॉटर की कहानियो के दीवाने है.

जे. के. रोलिंग से मिली हुयी सीख –

  • असफलता तुम्हे खुद के बारे में बहुत कुछ सिखाती ही, अपने कठिन परिस्थितियों में जितना हो सके उतना सीखना चाहिए जिसका हमे बहुत फायदा होता है.
  • अपनी कल्पनाशक्ति पर विश्वास रखना चाहिए और उसपे पूरे जोश के साथ काम करना चाहिए.
  • अपनी आलोचना को सकारात्मकता से स्वीकार करना चाहिए.
  • अपने विचारो पर काम करना चाहिए.

तो दोस्तों जैसा की हमने देखा, इतने मुश्किल हालतो से गुजरने के बाद भी जे. के. रोलिंग आज भी अपनी प्रबल इच्छाशक्ति से हमे प्रेरणा दे रही है.

“रोलिंग एक बेरोजगार सिंगल मदर से एक अरबपति बेस्ट सेलर लेखिका बन गयीं, पर यह सब एक रात में नहीं हो गया! उनकी कहानी दर्द, दुःख, भावनात्मक टूटन, रिजेक्शन, तनाव और अवसाद से भरी पड़ी है, लेकिन इन सब के बावजूद उन्होंने अपने रचनात्मक काम को नहीं छोड़ा. इन सब मुसीबतों को वे अपने उपन्यास में दर्शाती रहीं, जब उनकी माँ का देहांत हुआ तो उन्होंने हरमायनी का किरदार रचा. जब वे अवसाद का शिकार थी तब, उन्होंने आत्मा को खीच लेने वाले दम पिशाच को बनाया”

चाहे कितनी भी रुकावटे आये हमे उसका सामना डटके करना चाहिए और अपनी हर असफलता से सीखते हुए खुद को बुलंद और सफल बनाना चाहिए.

About the author

Haidar Raza khan

Hello My Name is Haidar Khan and I am the founder of OnlineHindiGuide Here on this blog I write about Blogging, SEO, Internet Tricks, Social Networking Site, Make Money Online And WordPress.

1 Comment

Leave a Comment

1 Shares
Share1
+1
Tweet